दिनांक 24.02.22 को शाम 07.30 बजे चौकी खोड थाना भौती पर सूचना प्राप्त हुई कि खोड सिरसोद रोड करई जाने वाले रास्ते के किनारे एक पुरानी सफेद रंग की प्लास्टिक की बोरी के अन्दर एक अज्ञात व्यक्ति का कटा हुआ सिर रखा है जिसकी किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा धार दार हथियार से सिर गर्दन के ऊपरी भाग से काटकर अलग कर दी गई है व उसकी हत्या कर साक्ष्य को छिपाने के लिये सिर को बोरी में रख कर फैंका गया है । घटना की सूचना तत्काल वरिष्ठ अधिकारियों को दी गयी जिसपर से पुलिस महानिरीक्षक ग्वालियर श्री अनिल शर्मा द्वारा मामले को गंभीरता से लेकर तत्काल मृतक की शिनाख्त की एवं अज्ञात आरोपियों की गिरफ्तारी के निर्देश दिए । श्रीमान पुलिस अधीक्षक महोदय श्री राजेश सिंह चंदेल द्वारा रात्रि में ही,अति.पुलिस अधीक्षक महोदय श्री प्रवीण कुमार मोरिया,एसडीओपी महोदय पिछोर श्री दीपक तोमर मय एफएसएल टीम,फिंगर प्रिंट टीम,डॉग स्काउड के साथ मौके पर पहुचकर पर पहुंच कर घटना स्थल का निरीक्षण किया तथा शेष धड की तलास,पतारसी एवं आरोपीगणों की गिरफ्तारी हेतु निर्देश दिये गये । आज दिनांक 25.02.22 को सुबह 6 बजे से ही तीन टीमें बनाकर आसपास के गांव व क्षेत्र में कटे सिर का फोटो दिखाकर शिनाख्त करायी गयी तो पता चला कि यह सिमर्रा गांव के हरनाम आदिवासी हो सकता है जानकारी मिलने पर सिमर्रा गांव पहुचकर हरनाम आदिवासी के घर पर पहुचकर सिर की फोटो उसकी पत्नि को दिखायी जिसने अपने पति हरनाम के होने की शिनाख्त की एवं बताया कि एक व्यक्ति (बंगाली डाक्टर) जो खोड में प्रेक्टिस करता है जिसने हमारी जमीन गिरवी रखी है व एक अन्य व्यक्ति निवासी बक्सनपुर के साथ पति हरनाम ने शराब व मुर्गा की पार्टी दो दिन पहले की थी तभी से ही हरनाम घर नही आया । संदेह होने उक्त दोनों की तलास की तो बंगाली डाक्टर खेत की फसल में छिप गया व दूसरा आरोपी फसल की आड लेकर वहां से भाग गया आरोपी बंगाली डाक्टर को घेराबंदी कर पकडा गया, पूछताछ की गयी तो उसने अपना जुर्म स्वीकार करते हुये बताया कि हमने हरनाम आदिवासी का सिर,धड व पैर कुल्हाडी से काटे थे सिर मैंने खोड सिरसोद रोड करई जाने वाले रास्ते के किनारे फैंक दिया था व धड को सिमर्रा गांव में हरनाम के खेत पर बना कुआ जो सूखा होने का कारण पूर दिया गया था उसी के शेष गड्डे में सूखे चारे से ढककर छुपा देना बताया आरोपी पवन अधिकारी की निशादेही से म्रतक का धड गड्डे से बरामद किया व कटे हुये पैरों के बारे में पूछा तो बताया कि मेरे साथी ने कही फैंका है बाद दूसरे आरोपी की तलास करते हुये उसे आरोपी को बक्सनपुर के रास्ते के जंगल में भागते हुये पकडा गया एवं पूछताछ करने पर जुर्म स्वीकार करते हुये म्रतक के कटे हुये दौनो पैरों को जंगल में ही एक टीले पर फैंकना बताया जिसकी निशादेही में लाश के दोनो कटे हुये पैर बरामद किये गये । आरोपीगणों द्वारा बताया कि एक दिन पूर्व म्रतक हरनाम आदिवासी से हमारा झगडा हुआ था हम जमीन हडपना चाहते थे । इसलिए हमने उक्त बरदात को अंजाम दिया।

उल्लेखनीय भूमिका- डीएसपी दीपक सिह तौमर एसडीओपी पिछोर , निरीक्षक संजय मिश्रा थाना प्रभारी भौती , थाना प्रभारी पिछोर निरीक्षक गब्बर सिंह,थाना प्रभारी अमोला उपनिरीक्षक अमित चतुर्वेदी ,उनि.राजीव दुबे चौकी प्रभारी खोड,उनि.आर.एस.चौहान थाना भौती, प्रआर.224 राजेश शर्मा,आर.954 नवनीत जाट, आर.1188 धर्मवीर रावत,आर.98 बृजराजसिह,आर.719 सुखवीर जाट,आर.935 संजय धाकड